आईटीआई और उद्योगों के बीच साझेदारी पर निजी बैठक का आयोजन


ग्लोबल हरियाणा न्यूज़ /फरीदाबाद : 12 जनवरी। स्थानीय एफआईए हाल में कौशल विकास और औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग और उद्योग विभाग ने संयुक्त रूप से एसडीआईटी और उद्योग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री देवेन्द्र सिंह, आई ए एस, की अध्यक्षता में शनिवार को आईटीआई और उद्योगों के बीच साझेदारी पर स्थानीय निजी उद्योगों के साथ एक बैठक आयोजित की। बैठक में उपायुक्त अतुल कुमार द्विवेदी ,एसडीएम सतबीर मान, डीआईसी अनिल चौधरी,उद्योग विभाग तथा इण्डस्ट्री ट्रेनिंग विभाग व प्रशिक्षण महानिदेशालय के अधिकारियों सहित लगभग 50 उद्योगपतियो ने भाग लिया।बैठक को संबोधित करते हुए अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि यह हरियाणा के मुख्यमंत्री विजन के तहत सरकार के प्रयासों का हिस्सा है। अक्टूबर 2017 में अभियान शुरू होने के बाद से, राज्य में स्कूली शिक्षा,आईटीआई प्रशिक्षणऔरअल्पावधि कौशल कार्यक्रमों के पारिस्थितिकी तंत्र और युवाओं के लिए रोजगार के अवसरों को जोड़ने के लिए कई पहल की गई हैं। आईटीआई में प्रशिक्षण की गुणवत्ता में सुधार लाने और राज्य में उद्योगों को कुशल श्रम प्रदान करने के लिए सरकार की प्राथमिकता के हिस्से के रूप में थी। बैठक में तीन मुख्य योजनाओं पर चर्चा हुई इनमें 1961 के अपरेंटिस अधिनियम को बढ़ावा देने के लिए योजना, एनएपीएस की योजना के तहत शक्ति के अधिकतम 10 प्रतिशत तक 2.5 प्रतिशत की न्यूनतम से 40 से अधिक कर्मचारियों (संविदा या स्थायी) के साथ सभी प्रतिष्ठानों को अनिवार्य करने का आदेश दिया गया है। प्रशिक्षण की यह दोहरी प्रणाली जो कि विश्व स्तर पर पालन किया जाने वाला तंत्र है। जो रोजगार प्रशिक्षण और लचीले समझौता ज्ञापनों को प्रदान करने के लिए है जहां उद्योग आईटीआई के साथ साझेदारी कर सकते हैं और प्रशिक्षण के लिए प्रदान किए जाने वाले समर्थन को परिभाषित कर सकते हैं।श्री देवेन्द्र सिंह ने उद्योग भागीदारों से अपील की है कि वे अधिक से अधिक प्रशिक्षुओं की नियुक्ति करें और आईटीआई के साथ प्रशिक्षण और लचीले समझौता ज्ञापनों की दोहरी व्यवस्था करें। उन्होंने बताया कि कैसे उद्योग अपने भविष्य की भर्तियों के प्रशिक्षण में इन योजनाओं से लाभान्वित हो सकते हैं और अपनी उत्पादकता बढ़ा सकते हैं।उन्होंने कहा कि एस्कॉर्ट्स, जेसीबी और जेबीएम जैसे सकाम साथी उद्योगों के प्रतिनिधियों ने भी अपनी कंपनियों में शिक्षुता के लाभों के बारे में बात की। साक्षम साथी उद्योग अपने कर्मचारियों की संख्या के 5 प्रतिशत से अधिक को प्रशिक्षु के रूप में नियुक्त कर रहे हैं। मार्च 2018 में माननीय  मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल द्वारा उनके समर्थन के लिए 22 ऐसे उद्योगों को सम्मानित किया गया था। अगले दो महीनों में एक और दौर का आयोजन किया गया है।बैठक में अधिकारियों व उद्योगपतियों ने खुलकर सुझाव भी साझे किए।सक्षम हरियाणा के निखिल कुमार ने हरियाणा सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं/स्कीमो बारे विस्तार पूर्वक जानकारी दी। उन्होंने हरियाणा आईटीआई की विभिन्न गुणवत्ता पूर्वक गतिविधियों बारे भी विस्तार पूर्वक बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *