राष्ट्रीय विज्ञान दिवस – विज्ञान का शांतिपूर्ण कार्यों के लिए करें उपयोग

FARIDABAD: राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय एन आई टी तीन फरीदाबाद की जूनियर रेडक्रॉस, गाइड्स और सैंट जॉन एंबुलेंस ब्रिगेड ने प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचंदा की अध्यक्षता में विज्ञान सप्ताह के अंतर्गत विभिन्न गतिविधियां करवाई जा रही हैं। सर चंद्रशेखर वेंकट रमन द्वारा रमन इफेक्ट की खोज करने की स्मृति में प्रत्येक वर्ष 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में मनाया जाता है। वेंकट रमन को उनके इस कार्य के लिये वर्ष 1930 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। पहला राष्ट्रीय विज्ञान दिवस वर्ष 1987 में मनाया गया था। जूनियर रेडक्रॉस और सैंट जॉन एंबुलेंस ब्रिगेड प्रभारी प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचंदा ने बताया कि नई शिक्षा नीति में नेशनल रिसर्च फाउंडेशन को एक स्वायत्त निकाय के रूप में स्थापित किया जाना है। यह भारत में अनुसंधान की गुणवत्ता हेतु वित्तपोषण, सलाह और निर्माण आदि कार्यों को देखेगा। एन आर एफ भारत में विभिन्न विषयों पर कार्य करने वाले शोधकर्ताओं को निधि प्रदान करता है। शिक्षा विभाग के आदेशानुसार विद्यालय में विज्ञान सप्ताह के अंतर्गत निबंध लेखन, मॉडल बनाना एवम विज्ञान का शांति एवं समझ के साथ उपयोग पर पोस्टर बनाओ आदि कार्यकलाप आयोजित किए जा जाते है। प्राचार्य मनचंदा, अध्यापिका अंशुल, मौलिक मुख्याध्यापिका पूनम, अध्यापिका रेनू ने बालिकाओं गिरिशा, संजना, सिमरन, कनक और किरण द्वारा बनाए गए पोस्टर के लिए सम्मानित किया। केतिका, यासमीन, स्मीरन, दिव्या और तन्नू ने विज्ञान का उपयोग शांतिपूर्वक कार्यों के लिए करने के लिए परामर्श दिया। समझदारी से शांतिपूर्ण कार्यों के लिए विज्ञान में किए गए अनुसंधान से विश्व में शांति और भाईचारा स्थापित करना संभव है। प्राचार्य मनचंदा ने कहा कि शिक्षा विभाग द्वारा विज्ञान दिवस और विज्ञान सप्ताह मनाने का उद्देश्य लोगों में विज्ञान के महत्त्व और उसके अनुप्रयोग के संबंध में संदेश का प्रचार करना है ताकि छात्रों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण विकसित हो सके और वे इनोवेटिव विचारों से नए और सुंदर आविष्कार कर सकें। प्राचार्य मनचंदा ने सुंदर आयोजन के लिए अध्यापिका अंशुल और विज्ञान विभाग के सभी अध्यापकों का अभिनंदन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *