घरों में,नौकर,ड्राईवर,किरायेदार रखते समय उनका पुलिस वेरीफिकेशनअवश्य कराऐ : पुलिस आयुक्त

ग्लोबल हरियाणा न्यूज़ / फरीदाबाद : अपने घरों में,घरेलू सहायिका/नौकर/ड्राईवर/किरायेदार रखते समय उनका चरित्र सत्यापन(पुलिस वेरीफिकेशन)अवश्य कराऐ। यह आपकी और आपके परिवार की सुरक्षा के लिय जरुरी है पुलिस सत्यापन नहीं कराना कानून की अवहेलना है, इस संबंध में कानूनी कार्रवाई की जा सकती है।अक्सर देखने में आता है कि घरेलू सहायिका/नौकर/ड्राईवर/किरायेदार रखते समय कुछ लोग पुलिस वेरीफिकेशन कराना जरुरी नहीं समझते जो उनके स्वंय के लिए हानिकारक है इस तरह बिना सत्यापन के रखे गये लोग कुछ दिन काम करते हैं और घर में चोरी करके फरार हो जाते हैं या किसी अपने जानकार के माध्यम से चोरी करवा देते हैं।एटीएम का इस्तेमाल करने से पहले कुछ जरुरी जानकारी जनहित के लिए-
इंटरनेट के इस्तेमाल से आम जीवन काफी सुगम हो गया हैं। वहीं दूसरी तरफ कुछ आसामजिक तत्व इसका दुरुपयोग भी कर रहे है।
एटीएम कार्ड बदलकर, एटीएम का नकली क्लोन तैयार कर और खुद को बैंक का अधिकारी बताते है फिर लोगो को गुमराह करके ठग लेते है।
ये ठग एटीएम बूथ पर आने वाले हर किसी को निशाना नहीं बनाते। जो जल्दबाजी में या चेहरे से हैरान परेशान दिख जाते हैं। इसके साथ ही उन लोेगो को भी निशाना बनाते हैं, जिन्हें एटीएम के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है। कई बार महिलाओं को अपने झासें में ले लेते है।
फरीदाबाद पुलिस की अपील है कि कोई भी व्यक्ति या महिला इनके झांसे में ना आये और विवेक से काम ले। पुलिस द्वारा दिऐ गऐ टिप्स अमल करतें हुए सावधानी बरते।
1.एटीएम बूथ पर पैसे निकालते वक्त सावधान रहें, सजग रहें ताकि आपका पैसा सुरक्षित रहे।
2.कोई भी व्यक्ति कभी भी किसी एटीएम बूथ से कार्ड के द्वारा ट्रांजैक्शन करे तो अपना पिन किसी को ना बताएं व ना दिखाएं।
3.ट्रांजैक्शन करने में असमर्थ होने पर किसी भी अपरिचित व्यक्ति की सहायता ना लें। वह अपरिचित आपके साथ धोखेबाजी कर सकता है, आपके एटीएम कार्ड को बदल सकता है या आपके खाते से पैसा उड़ा सकता है।
4.कुछ चीटर अपने शिकार की तलाश में एटीएम बूथ के पास खड़े रहते हैं। फ्राड़ करने वाले जानबूझकर आपकी मदद करने का ऑफर देते हैं,लेकिन ऐसी मदद करने वालों की सहायता ना ले। किसी भी अपरिचित पर विश्वास ना करें।
5.पैसे निकालने में कभी मदद लेनी पड़े तो केवल बैंक के कर्मचारियों या एटीएम बुथ में मौजूद गार्ड की सहायता लें।
6 पुलिस सहायता के लिय 9999150000 व 100 डायल करे।
पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने कहा कि सस्ती दरों पर कंपनियों के माध्यम से जो कोई भी आॅॅफर दिया जाता हैं तो सचेत रहने की जरुरत है। किसी भी सरकारी योजना के नाम पर या लाॅटरी के नाम पर वहटसअप/मेल/फेसबुक पर भेजे गये किसी भी प्रकार के लिंक को लालच में आकर ना खोले नहीं तो आप ठगी का शिकार हो सकते हैं। इसलिए किसी भी तरह के आॅफर के लालच में ना फसंे। जागरुकता ही बचाव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *