अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस – शिक्षा रूपी दीपक से लैंगिक असमानता होगी दूर

राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय एन आई टी तीन फरीदाबाद की जूनियर रेडक्रॉस, गाइड्स और सैंट जॉन एंबुलेंस ब्रिगेड ने प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचंदा की अध्यक्षता में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। विद्यालय की सैंट जॉन एंबुलेंस ब्रिगेड व जूनियर रेडक्रॉस प्रभारी प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचंदा ने कहा कि महिलाओं का समाज की उन्नति में सर्वोपरि स्थान है और उन का हमेशा ही सम्मान किया जाना चाहिए। हमारे शास्त्रों में भी कहा गया है कि यत्र नार्यस्तु पूज्यंते, रमन्ते तत्र देवता। अर्थात जहां महिलाओं को सम्मान मिलता है, पूजा होती है देवता वहीं निवास करते है। हमारी संस्कृति में नारी का स्थान सर्वोच्च है किसी भी पूजा अथवा शुभ कार्य महिलाओं की भागीदारी के बिना अधूरा ही रहता है। प्राचार्य मनचंदा ने कहा कि इस वर्ष अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का थीम विषय जेंडर इक्वालिटी टुडे फॉर ए सस्टेनेबल टुमारो अर्थात एक स्थाई और समान कल के लिए समाज में लैंगिक समानता आवश्यक है। समय के साथ महिलाओं की स्थिति में परिवर्तन आया है फिर भी आज भी महिलाएं भेदभाव का शिकार है। आज भी समाज को महिलाओं के लिए ज्यादा काम करने की आवश्यकता है। महिलाओं की स्थिति में सुधार करने के लिए और समाज को जागरूक करने के लिए लैंगिक समानता को समाप्त करना होगा और बेटियों की शिक्षा पर अधिक फोकस करना होगा। विद्यालय में शिक्षा प्राप्त कर रही बालिकाओं की माताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि शिक्षा रूपी दीपक से महिला सशक्तिकरण, पुरुषों के समान अवसर, बेटा बेटी में भेद तथा वे सभी क्षेत्र जहां महिलाओं की पहुंच नही हो पाई है, सहित सभी प्राप्त किया जा सकता है। प्राचार्य मनचंदा ने सभी से आग्रह किया कि सुखी और समृद्ध भविष्य के लिए हम सब को बेटियों को गुणवतापरक शिक्षा दिलवाना सब से महत्वपूर्ण उद्देश्य होना चाहिए। शिक्षा रूपी कुंजी से सभी प्रकार की बेड़ियों और बंधनों के तालों को खोला जा सकता है। महिला दिवस मनाने का उद्देश्य यह है महिलाओं को प्रत्येक वो अधिकार प्रदान किए जाए जो एक सामान्य नागरिक को दिए जाते हैं। भेदभाव ही उनके पीछे रहने का सबसे बडा कारण है। आज आयोजित किए गए विशेष कार्यक्रम में अमृत कौर, अंशुल, संजय मिश्रा, विद्यालय एक्टिविटीज कॉर्डिनेटर डॉक्टर जसनीत कौर, वरिष्ठ प्राध्यापिका ललिता और खुशी संस्था से वर्षा, अर्चना सहित सभी स्टाफ सदस्य और तीस से अधिक छात्राओं की माताएं उपस्थित रही। प्राचार्य मनचंदा ने व्यवस्थित आयोजन के लिए सभी सदस्यों का आभार व्यक्त करते हुए बेटियों की शिक्षा के लिए गंभीर और सार्थक प्रयास करने के लिए कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *