कोरोना के मरीजों के लिए बने ऑक्सीजन अस्पताल का विरोध करने वाले किसान नहीं मानवता के दुश्मन

ग्लोबल हरियाणा न्यूज़ / फरीदाबाद / हरजिन्दर शर्मा / 16 मई , 2021 : आज हिसार में मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा 500 बेड का चौधरी देवी लाल संजीवनी ऑक्सीजन युक्त कोविड हॉस्पिटल के उद्घाटन के अवसर पर कुछ शरारती तत्वों द्वारा किए गए विरोध की फ़रीदाबाद भाजपा ज़िला अध्यक्ष गोपाल शर्मा ने कड़ी निंदा की है। गोपाल शर्मा  ने कहा कि किसान कभी भी अस्पताल के उद्घाटन का विरोध नहीं कर सकते जो मानवता की रक्षा के लिए बनाया जा रहा हो ।  एक तरफ प्रदेश और देश कोरोना की सबसे भयावह लहर से गुजर रहा है। दिन-प्रतिदिन लगातार कोरोना के मामले बढ़ने से दूसरी लहर में सरकार को अतिरिक्त संसाधन जुटाने पड़ रहे है  ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक ऑक्सीजन से लेकर तमाम तरह के इलाज की सुविधा पहुंचे I इसके लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में प्रदेश  सरकार दिन रात कार्यरत है I भाजपा  प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ के नेतृत्व में भाजपा हरियाणा के कार्यकर्ता  “सेवा ही संगठन है” के अभियान में दिन – रात कार्य कर रहे है। इसकी निंदा  करते हुए  प्रदेश पेनलिस्ट प्रवक्ता बिजेंद्र नेहरा ने कहा कि हिसार में ऑक्सीजन युक्त 500 बैड के ताऊ देवीलाल संजीवनी अस्पताल के उद्घाटन का विरोध किसान नहीं कर सकते। ये किसान के नाम का सहारा लेकर कर राजनीतिक दलों के मोहरे है। किसान का चोला पहनकर मानवता के खिलाफ काम करने वाले लोगों का चेहरा जनता के सामने आ चुका है। हिसार व हरियाणा में कोरोना से जान गंवाने वाले लोगों की मौत के जिम्मेदार ऐसे ही मानवता के दुश्मन होंगे। मै ऐसे लोगों को चेताना चाहता हूँ ये समय गांदी राजनीति करने का नहीं, ये मजबूती से कोरोना महामारी का सामना करने का है। प्रदेश सरकार अपनी पूरी ताकत से प्रदेश की ढाई करोड़ जनता के लिए कार्य कर रही है और करती रहेगी। देश और प्रदेश का किसान तो भाजपा की केंद्र और प्रदेश सरकार की किसान हितैषी नीतियों से खुश है। दो दिन पहले ही देश के प्रधानमंत्री ने साढ़े 9 करोड़ से ज्यादा किसानों के खातों में किसान सम्मान निधि की आठवीं किस्त के तौर पर 19 हजार करोड़ रुपए से अधिक की राशि जारी की है। जिसमें हरियाणा के 17 लाख 29 हजार 311 किसानों के खातों में 356 करोड़ 15 लाख 90 हजार रुपए की राशि डालने का काम किया है। बिजेंद्र नेहरा ने कहा आने वाले समय में मेरे हरियाणा प्रदेश का किसान इन राजनीतिक भेड़ियों को मुँह तोड़ जवाब देगा। ये किसान का संघर्ष नहीं सत्ता का संघर्ष है। जो मानवता के खिलाफ जा सकता है वह किसान नहीं हो सकता, मुख्यमंत्री ने प्रदेश के किसानों से कोरोना काल में धरना समाप्त करने की अपील की थी, अपील के बाद मेरा कुछ भोला–भाला किसान जो इन के बहकावे में था वह तो अब घर लौट चुका है। अब इस कोरोना महामारी में केवल मानवता के दुश्मन ही धरने चला रहे है और हरियाणा सरकार को जनता के हित के कामों को करने से रोकने का प्रयास कर रहे है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *