युद्ध से विनाश परंतु शांति और सौहार्द से विकास

एन आई टी तीन फरीदाबाद स्थित राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय की जूनियर रेडक्रॉस, गाइड्स और सैंट जॉन एंबुलेंस ब्रिगेड ने प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचंदा की अध्यक्षता में आपसी सौहार्द और शांति के लिए कार्यक्रम आयोजित किया। इस कार्यक्रम में बालिकाओं ने पेटिंग और पोस्टर बना कर युद्ध की विभीषिकाओं का वर्णन करते हुए सभी से शांति के साथ रहने एवम धैर्य बनाए रखने की अपील की। विद्यालय की सैंट जॉन एंबुलेंस ब्रिगेड, गाइड्स और जूनियर रेडक्रॉस प्रभारी प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचंदा ने कहा कि युद्ध एक लंबे समय तक चलने वाला आक्रामक कृत्य है जो सामान्यतः भिन्न भिन्न देशों और राज्यों के बीच झगड़ों के आक्रामक और हथियारबंद लड़ाई में परिवर्तित होने से उत्पन्न होता है। युद्ध सदैव दोनों पक्षों को विनाश के द्वार तक ले जाता है।युद्ध किसी भी समस्या का समाधान नहीं है। युद्ध से नर संहार तो होता ही है आर्थिक, वाणिज्यिक और सामाजिक रूप से भी अपूर्णीय क्षति पहुंचती है। मानव जाति को युद्ध में अत्यधिक हानि उठानी पड़ती है जो आने वाली पीढ़ियों द्वारा भी पूर्ण नहीं की जा सकती। विज्ञान ने इतनी उन्नति कर ली है और युद्ध में विज्ञान की उन्नति के दुरुपयोग से शक्ति संपन्न देश, राज्य और व्यक्ति दूसरों का अहित ही करते हैं। लड़ाई और युद्ध के विकल्पों पर गहनता से चिंतन करने की प्रबल आवश्यकता है। शांति और उचित समन्वय से युद्ध का विकल्प खोजना असंभव नहीं हो सकता। क्योंकि युद्ध के दीर्घकालिक परिणाम केवल प्रभावित व्यक्ति, राज्य या देश ही नहीं अपितु सम्पूर्ण विश्व को सहन करने पड़ते हैं। प्राचार्य मनचंदा, अध्यापिका अंशुल और कॉर्डिनेटर डॉक्टर जसनीत कौर ने कहा कि विज्ञान की उन्नति और अनुसंधान का लाभ शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए ही प्रयोग में लाना उचित है न कि विध्वंसक उद्देश्यों और मानव जाति के समूल नाश के लिए। विद्यालय की जूनियर रेडक्रॉस और सैंट जॉन ब्रिगेड सदस्य छात्राओं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *