फरीदाबाद के आठ स्कूल डीपीएस सैक्टर 19, ग्रेटर फरीदाबाद, एमवीएन, एपीजे, डीएवी, विद्या मंदिर, रैयान व मानव रचना

globalharyanaफरीदाबाद : 21.4.16: चैयरमेन फीस एंड फंड रैगूगलैटरी कमेटी कम गुडग़ांव मण्डल आयुक्त डी. सुरेश ने गुडग़ांव के डीपीएस स्कूल सहित सात स्कूलों को फीस वृद्धि के मामले में दोषी मानते हुए उन्हें कारण बताओ नोटिस भेजकर एक सप्ताह में अपना पक्ष रखने को कहा है और अंतिम निर्णय होने तक 2014-15 के आधार पर फीस वसूलने के आदेश जारी किए। हरियाणा अभिभावक एकत मंच ने मण्डल आयुक्त को पत्र लिखकर फरीदाबाद के आठ स्कूलों के आय-व्यय की जांच रिपोर्ट सार्वजनिक करने और उनके खिलाफ भी उचित कार्यवाही करने की मांग की है।
मंच के प्रदेश महासचिव कैलाश शर्मा ने बताया कि मंडल आयुक्त ने अपने आदेश संख्या जीए/2015/ 4164-77 दिनाक: 24.7.2015 के द्वारा एडीसी गुडग़ांव की अध्यक्षता में वहां की सात निजी स्कूलों व एडीसी फरीदाबाद की अध्यक्षता में यहां के आठ स्कलों के खातों की जांच व उनके द्वारा की जा रही मनमानी की जांच करके तीन माह के अंदर अपनी रिर्पोट प्रस्तुत करने को कहा था। इसके लिए मैसर्स एसएम सैनी एंड एसोसिएट चार्डट एकाउटेंट की सेवाएं ली गई थी। एडीसी गुडग़ांव द्वारा प्रस्तुत की गई जांच रिर्पोट के आधार पर मण्डल आयुक्त गुडग़ांव ने अपने आदेश संख्या जीपी/2014 दिनांक 18 अप्रैल 2016 के द्वारा गुडग़ंाव के सात स्कूलों को फीस वृद्धि के मामले में दोषी मानते हुए कारण बताओ नोटिस भेजकर उनसे कहा है कि अंतिम निर्णय आने तक वे 2014-15 के आधार पर अभिभावकों से फीस वसूलें। उन्होंने अपने आदेश में लिखा है कि जांच रिर्पोट में उनके पास काफी मात्रा में सरपल्स व रिजर्व फंड पाया गया उसके बावजूद उनके द्वारा की गई फीस वृद्धि गैर कानूनी है। मंच के जिलाध्यक्ष एडवोकेट शिवकुमार जोशी व सचिव मनोज शर्मा ने मण्डल आयुक्त से मांग की है कि फरीदाबाद के आठ स्कूल डीपीएस सैक्टर 19, ग्रेटर फरीदाबाद, एमवीएन, एपीजे, डीएवी, विद्या मंदिर, रैयान व मानव रचना में किए गए आडिट व मनमानी जांच प्रकिया पर शीघ्र कार्यवाही करते हुए रिर्पेाट को सार्वजनिक किया जाए और यहां के दोषी स्कूलों के खिलाफ भी उचित कार्यवाही की जाए। मंच की ओर से मण्डल आयुक्त के पास आरटीआई लगाकर गुडग़ांव व फरीदाबाद के 15 स्कूलों की जांच रिर्पोट देने को कहा गया है।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *